शाम ढले एक बात चली है…


शाम  ढले  एक  बात  चली  है। 
कागज़  पर  कलम, फिर  एक  बार  चली  है। 

ज़िन्दगी  तो  ज़िन्दगी  है , वो  चल  रही  है। 
सुख  हो  या  दुःख , आगे  बढ़  ही  रही  है। 
गिरते  गिरते  संभालना , उठ कर  फिर  चलना। 
मुसीबत  को  दफना  कर  युहीं  चलना। 
यही कोशिश  हर  वक़्त  हो  रही  है। 
राह  में  कांटो  की  आंधी  हो  चली  है। 
इस  आंधी  में  धूप, फिर  एक  बार  खिली  है। 
शाम  ढले  एक  बात  चली  है।  
कागज़  पर  कलम , फिर  एक  बार  चली  है। 

अंतर्मन  की  शक्ति  पहचान  कर। 
मौसम  का  बदले  मिज़ाज़  को  भांप  कर। 
कारवां  बढ़  रही  है। 
कभी  आसमान  तो  कभी  आँखों  से  बारिश  हो  रही  है। 
और  ज़िन्दगी  यूँ  ही  चल  रही  है। 
लाख  दुआ  लाख  कोशिश  शायद  ही  काम  आती  है। 
जब  इरादे  नेक  हो  तो  मंज़िल  मिल  ही  जाती  है। 
इस  मंज़िल  को  पाने  की  ललक  ज़रूरी  है। 
हर  सुबह  एक  नयी  किरण  लाती  है। 
आँखों  की  बारिश  को  मिटाती  है। 
यही  बात  तो  समझनी  है। 
ज़िन्दगी  है  और  इसमें , 
उम्मीद  की  कलि  फिर  एक  बार  खिलनी  है। 
शाम  ढले  एक  बात  चली  है। 
कागज़  पर  कलम , फिर  एक  बार  चली  है। 
कागज़  पर  कलम , फिर  एक  बार  चली  है।  

- Ashish Kumar
PC: Google

Deceiver…


Long journey came to an end.
Showcasing revealed at the end.
Moment of joy followed by sorrow.
Body and heart became hollow.
Disease of trust rests uncured.
As betrayal continued its go.
Insane actions with thorny words.
Situation was out of control.

Changing colours like chameleon.
He was a moron.
Fake expression and always lied.
A deceiver was sitting beside.
Doing all in the name of a supporter.
He turned out to be a traitor.
Realization came too late.
As the damage was already made.

Life taught a good lesson.
Trusting should be a cautious lesson.
Deceiver do not come with prior notice.
As they always pretend to be supportive.
They always pretend to be supportive.

- Ashish Kumar

Worry…


Weird and annoyed of this torture.

Fading away the present and future.

Useless and false sympathy everytime.

Real faces appeared fake in trying time.

Surrounded by dark intentions every side.

They are always ready to attack.

Standing in the centre of the battle playground.

I am building the ground.

Cutting the thorns of life.

I am sowing the seeds of life.

Life without purpose is meaningless.

People play with emotions seamless.

Truth buried and falsification surpassed.

Faces are counterfeit while truth lies in their inside.

One truth lies inside us too.

Identifying that is what we must do.

Inner strength is the power to tackle all worries.

When worries also worry to come and let us worry.

This fear is good.

Achieved by inner strength and soul try.

Worry should worry to let us worry.

Worry should worry to let us worry.

Ashish Kumar

One Lovely Poem…


I started to write one lovely poem.
Filled with emotions and romanticism.
Some sorts of sorrow, grief and hope.
Covering the battle of tragedy and scope.
Love and betrayal back-to-back with storm.
Transformation from being feeble to strong.
Lovely days along with lovely memories.
The poem had all sorts of stories.
Trust, understanding being pillars of relations.
The poem covered all sorts of relations.
Life struggle, thoughts and imagination.
The poem dealt with all trying situation.


Well crafted words and easily relatable.
Poem described life was not much profitable.
Each phases had its own story.
The poem was a poem, not a story.
Simple, short and understandable.
The poem was little bit emotional.
Writing one lovely poem continues.
As that poem was never complete.
I wrote another lovely poem.
I am presenting that one lovely poem.
You are reading that “One Lovely Poem”.

Ashish Kumar

जज़्बात


जज़्बात कभी हालात ने बदले,

तो कभी मुलाकात ने बदले।

जज़्बात कभी रात के अंधियारों ने बदले,

तो कभी जीवन के अंधकार ने बदले।

कभी आग की लपटों में जज़्बात जल गए,

तो कभी दिल की आग में धुआं बन उड़ गए।

शाम ढलते कभी दिल के कब्र में चले गए,

तो कभी भोर होते वापस दिल में बस गए।

जज्बात कभी कोहरा बन उड़ गए,

तो कभी अश्रुओं की बारिश में बह गए।

जज़्बात कभी हालात ने बदले,

तो कभी मुलाकात ने बदले।

दिलवालों की बस्ती में कभी दिल ही न मिले।

फिर इंसान का दिल भगवान या खुदा से कैसे मिले?

क्या थे और क्या से क्या हो गए।

कभी दूध और पानी के प्यासे थे,

अब खून के प्यासे हो गए।

इतने रंग बदले कि बेरंग हो गए,

जज़्बात अब कागज़ में ही गुम हो गए।

जज़्बात अब कागज़ में ही गुम हो गए।

Ashish Kumar