चन्द्रमा की इच्छा …



Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

उदारता का एक उदहारण ऐसा भी है।
सहायता का एक उदहारण ऐसा भी है।
मददगार की मदद करने की जब इच्छा हो …
तब न कोई छोटा , न कोई बड़ा होता है।
मदद करने वाले का दिल बड़ा होता है।

PC: Google

एक दफा की बात है
चन्द्रमा ने सूरज को मदद की पेशकश की।
चाँद ने कहा , “समय आने पर मैं आपकी मदद अवश्य करूँगा। “
सूरज ने पूछा , “कब ?”
चाँद ने बड़े उदार स्वर में कहा …
जब आपकी किरणों की रौशनी कम हो जाये ,
जब आपकी रौशनी से उजाला कम होने लगे।
तब आप मुझसे मेरी रौशनी ले लेना।
तब आप मुझसे मेरी रौशनी ले लेना।

Ashish Kumar

20 thoughts on “चन्द्रमा की इच्छा …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s