Shayari – 9


कोरोना के इस काल में …
ज़िन्दगी तबाह हो रही पर कब तक, ये पता नहीं।
कितनी दूर तलक जाएगी ये त्रासदी, मालूम नहीं।
बस यही कहना चाहता हूँ …
धीरज धार , खुद पे विश्वास रख।
ये दिन भी कटेंगे , हम जीतेंगे और जीतकर बाहर आएंगे।
हम फिर से एक बार मुस्कुरायेंगे।
हम फिर से एक बार मुस्कुरायेंगे।

– Ashish Kumar

9 thoughts on “Shayari – 9

  1. AnuRag

    सही कहा आपने । हमें इस समय हमें उम्मीद का दामन नहीं छोड़ना चाहिए ।

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s