Shayari – 7


जब नींद आयी तो सवेरा हो चुका था।

और जब आंख खुली तो अंधेरा छा चुका था।

Ashish Kumar