अकेलापन |


अकेलेपन का अपना ही अलग मज़ा है |
लोग क्यूँ कहते इसे एक सज़ा है |
अपने आप से बात करने का मौका मिलता है |
खुद को परखने का अवसर दिखता है |

सब से बात करके अब खुद से बात करना चाहिए.
अकेलेपन का कुछ फायदा तो उठाना चाहिए.
किया बहुत सबने चिंतन और मनन.
अब करते हैं कुछ आत्म मंथन.

अकेले रहना कोई नही चाहता |
जो चाहिए वो हमेशा नही मिलता |
जब कभी अकेले होने का एहसास होता है |
दिल सिसकता है और रोता है |
अकेलेपन मे कोई अपना नही होता है |
पर ये भी सच है…
अकेले रहकर अकेलेपन को मारने मे मज़ा बहुत आता है |
मज़ा बहुत आता है…

emptiness-quotes-1

– Ashish Kumar

22 thoughts on “अकेलापन |

  1. Nisthur Anadi

    I am very found of Akelapan.

    Par is jimmedari bhare shahar main bohot mehnga hai

    Akelapan

    Garibo ki jaib main kahan hain daam jo laga kar boli kharid le

    Apni hi jingdagi ka

    Akelapan.

    Salam saab.

    Main is shahar main naya

    Tour tarke se kam waqif hun

    Par nashe main hun jab se

    Blogging ki duniya main janma hun.

    Ashish ji adab

    I loved your poem

    Liked by 2 people

    1. A warm welcome to my blog…
      Bahut khushi hui ki apko meri ye rachna pasand ayi… Apki pratikriya bahut hi lajawab hai jo khud hi ek kavita hai… mujhe bahut pasand ayi… 🙂
      aise hi hausla badhate rahiye taaki main aur accha likh sakhun… 🙂

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s