अपना हिन्दुस्तान |


As Independence day is coming closer i.e on 15th August. So here is my first take on a poem which is of patriotic theme. I hope it will be liked by you all… 🙂 Happy Independence day… 🙂

ये धरती है बहुत पावन |
यहाँ का हर रंग है मन भावन  |
जिसके सिर पे हिमालय का है ताज |
जो है हम सबका सरटाज़ |
शान से सदियों पे जिस पर हमे है गर्व |
हर रोज़ होता हैं यहाँ कोई पर्व |
है जिसका हमें अभिमान |
कोई और नहीं …
वो है अपना हिन्दुस्तान |

खून से सींचा है जिसे शहीदों ने |
जिसके लिए सर कटा दिया वीरों ने |
ये माटी है बहुत ही अनमोल |
जो बोलती है हमेशा मीठे बोल |
गोद मे संजोया है जिसने हमे |
माँ की तरह पाला है जिसने हमे |
होता है जिसपे हमें गुमान |
कोई और नहीं …
वो है अपना हिन्दुस्तान |

india2

देश है एक पर भाषा अनेक |
जहाँ के लोग हैं सॉफ और नेक |
है कौन जो इस से प्यार नहीं करेगा |
ढूँदने पर भी ब्रह्मांड में ऐसा देश नहीं मिलेगा |
इसकी वातावरण मे एक अनोखी खुशबू है |
जो कहीं और मिलती नहीं है |
है जहाँ पर सबका मान और सम्मान |
कोई और नहीं …
वो है अपना हिन्दुस्तान |

जिसने किया है संसार पर अनेकों उपकार |
क्यूँ न करे हम उस धरती से प्यार |
यही वो जगह है जहाँ स्वर्ग है बस्ता |
हर दिल मे हिन्दुस्तान है रहता |
इसकी तारीफ कोई लिख नहीं पाएगा |
लिखने भी लगे तो स्याही कम पर जाएगा |
जिसके हर एक कन मे अनोखी ताक़त है |
वो तो अपना भारत है |
नहीं होता है जहाँ किसी का अपमान |
कोई और नहीं …
वो तो है सिर्फ़ अपना हिन्दुस्तान |
अपना हिन्दुस्तान …

india1

  – Ashish Kumar