…THE SPECIAL…


There is always something special.
Finding that special is very crucial.
Life has many roles to play.
Depends on how we take in our way.

Trying to achieve perfection.
One should have a positive perception.
Life will never be without obstacle.
It is we only who have to tackle.

Its better to crush the negative thinking.
Generate a path with creative thinking.
Glow like stars and sun.
Don’t rest even if you have to burn.
It is possible to achieve the dream.
Rather than just seeing the dream.
Question is how?
Answer lies in us.
As…
There is always something special.
Finding that special is very crucial.

special

– Ashish Kumar

Advertisements

इस दुनिया में |


इस दुनिया में हर रोज़,
लोग मिलते हैं अजीबो ग़रीब स्वाभाव के |
पल पल रंग बदलती ये दुनिया,
ना जाने कब अपनी करवट बदल ले |
पर क्यू कम ही मिलते हैं लोग, 
जो होते हैं मिलनसार व्यवहार के |

इस दुनिया में,
भीड़ तो है हर जगह |
हर तरफ लोगों का ताँता लगा रहता है |
सारा संसार भरा हुआ है, जगह खाली नही |
पर क्यूँ ऐसा होता है,
लोगों की भीड़ मे अपनापन खोजना परता है |

the-weekly-outfit-feeling-sad-00

रघुपति राघव राजा राम |
लोग भूल गये करने अच्छे काम |
धर्म गया और कर्म गया |
ममता के लिए अब कोई मर्म न रहा |
इस दुनिया मे कभी कभी,
ऐसा भी होता है |
जो अपना होता है, वो ही दुश्मन बन जाता है |

इस दुनिया मे ही,
हमें जीना है |
सब कुछ यहीं करना है |
कभी हसना है तो कभी रोना है |
दूसरों को नही रुलाना है |
धूप और छाँव से खेलना है |
खुशियों को गले लगाना है |
दुखों को मिटाना है |
कभी संभलना है तो कभी संभालना है |
मानवता की सेवा करके,
मानवता को बचना है |
क्यूंकी…
इस दुनिया मे ही,
हमें जीना है |

life ups

 – Ashish Kumar

…WALK WITHOUT TALK…


A conversation which started recently.
But failed without ending correctly.
An incomplete gesture of talk.
Concluded in an unwanted walk.

A walk which was lonely from both side.
You took your side, I took my side.
Leaving the journey in between.
We decided not to be seen.

The situation which you never accepted.
Conveying it to you, I never hesitated.
Slowly and gently, we left away.
You moved your way, I moved my way.

The journey came to end before starting.
The house collapsed before building.
Wanted to take a golden bath.
You take your path.
And…
I will take my path.
But… Without any talk.
I will walk and walk…                                                                                                                      Walk without talk…

Giants-walking

– Ashish Kumar

…ALLERGIC TO “E” CHALLENGE…


One of my friend from blogging world , Neha from the blog FORGOTTENMEADOWS have nominated me to participate in this “E Challenge”. I was little bit worried whether I will be able to do this or not. 😦 But finally here I am with my post. 🙂  Thank you Neha for considering me for the same. She is a brilliant writer and her posts are refreshing and her poems are poignant as well. Do visit her blog which you will appreciate it for sure. 🙂

The Rules

  1. Write a whole paragraph (a paragraph sounds easy right?)
  2. Without any word containing the letter “e” (still easy for ya?)
  3. By reading this you are already signed up.
  4. Challenge at least five bloggers to do the challenge.

Here is my paragraph without the letter “e” in it.

Charming rays of sun in morning brings charm in work too.  Body and mind both gains vigor. Looking into rising sun is a big gift for all of us. Rays of rising sun is a symbol of starting your work. Sun always burns and that is why it is always shining. All of us should gain from this natural originator of vigor…

My nominees for this challenge are as follows…

It was a nice experience in taking this challenge and I hope you all the prominent and eminent bloggers will participate. Looking forward to read your posts… 🙂

– Ashish Kumar

…एक छोटी सी फरियाद|…


एक छोटी सी फरियाद करता हूँ मैं तुझसे भगवान|
कुछ नही बस बना दो इंसान को अब इंसान |
शामों सुबह दिखती है सिर्फ़ नफ़रत की पाठशाला |
हर जगह मिलता है मंज़र हैरान कर देने वाला |
एक छोटी सी फरियाद करता हूँ मैं तुझसे भगवान |
कुछ नही बस बना दो इंसान को अब इंसान |

भीड़ मे सिर्फ़ चेहरे दिखाई देते हैं |
इंसान ही एक दूसरे के दुश्मन बने फिरते हैं |
बन गयी दुनिया एक ऐसा बाज़ार |
जहाँ सब कुछ हो रहा है तार तार |
एक छोटी सी फरियाद करता हूँ मैं तुझसे भगवान |
कुछ नही बस बना दो इंसान को अब इंसान |

wish

भक्ति भी गयी और देशभक्ति भी गयी |
मानवता सोई की सोई ही रह गयी |
आँखो से तो प्रकृति की सुंदरता दिखाई देती है |
बुरे कर्म इतने हैं की उसकी सुंदरता भी फीकी नज़र आती है |
एक छोटी सी फरियाद करता हूँ मैं तुझसे भगवान |
कुछ नही बस बना दो इंसान को अब इंसान |

घाव पर नमक छिरकने का कारवाँ बढ़ता ही जा रहा है |
अपनी ही जनँनी की दूध मे ज़हर मिलने का क्रम चलता जा रहा है |
धरती भी कांपति है ऐसी वातावरण को देखकर |
चुप रह जाती है वो सिर्फ़ और सिर्फ़ खुद को कोसकर |
बदले की आग मे जल के लोग बदल गये |
इंसान के बदले हैवान बन गये |
भूल गये सब धर्म और कर्म |
नहीं रहा किसी मे अब कोई मर्म |
इंसानियत गयी मानवता चकनाचूर हो गयी |
दया और नेकी काफूर हो गयी |
इसलिए…
एक छोटी सी फरियाद करता हूँ मैं तुझसे भगवान |
कुछ नही बस बना दो इंसान को अब इंसान |

prayer-401401_640-1

 

Note : This is the 75th post of this blog… 🙂

 – Ashish Kumar