… मैं तो चलता गया |…


सब कुछ सवारते हुए |
खुद को सँभालते हुए |
मैं तो चलता गया |
पर मैं न रहा |

राहों में मुश्किलों को झेलते |
आँखों से आंसूं पीते |
होठों पे मुस्कराहट बनाये हुए |
मैं तो चलता गया |
पर मैं न रहा |
walk

कभी सुख को देख के |
कभी दुःख को झेल के |
अपने आप को भूल के |
मैं तो चलता गया |
पर मैं न रहा |

आवाज़ों के बाज़ारों में |
शोर के भवसागर में |
मेरी ख़ामोशी शांत हो गयी |
बोलूं तो बोलू क्या |
मेरी आवाज़ भी मुझसे नाराज़ हो गयी |
दुनिया की परछाई में |
खुद की परछाई भूल गया |
परन्तु …
मैं तो चलता गया |
पर मैं न रहा |

एक राह पकड़ी ऐसी |
जिस पर इंसान ने कदम ही न रखे थे |
उस अंजानी और अजनबी राह में |
मंज़िल तलाश लिया |
औरो की क्या बात करे |
खुद को ही अपना शागिर्द बना लिया |
अकेले ही रहकर |
अकेलेपन को मार डाला |
पर …
मैं तो चलता गया |
पर मैं “मैं” न रहा |

अँधेरा आया और गया |
पर सवेरा नहीं हुआ |
आने और जाने का चक्र चलता रहेगा |
मैं था , मैं हूँ |
राह कठिन है बहुत |
अंगारों पर चलना होगा |
मुश्किलों को मारने के लिए |
खुद से जीतना होगा |
सवेरा लाने के लिए |
खुद को सूरज की तरह जलना होगा |
डगर मुश्किल है नामुमकिन नहीं |
इसलिए …
मैं तो चलूँगा |
और चलता रहूँगा | 

walk1  – Ashish kumar

Advertisements

40 thoughts on “… मैं तो चलता गया |…

    1. Thank you so much Ravish for your valuable views and liking the poem… 🙂
      Yes this Kabir doha is very very eloquent and have a deep meaning… thank you for sharing this… 🙂

      Like

  1. Bahut Umda 🙂 kuch meri taraf se bhi…inspired from your poetry 🙂

    यूँ ही चलने का नाम हैं यह ज़िंदगी …कुछ गहरे पलों में ठहरी हुई यह सुस्त सी ज़िन्दगी~रूचि चोपड़ा

    Liked by 1 person

      1. yes i do write in hindi as it gives me immense pleasure… i recently imported my hindi blog to this blog… now my all the hindi poems are available under “Hindi Poems” categories… 🙂
        yes i know you write in hindi too… i have read one of your hindi poems… do share more of yor hindi work… 🙂

        Liked by 1 person

      2. Wow! that’s awesome….I would love to read them all, starting from today. Thanks for the reminding me of, Hindi Poems category, I am also having one at one blog, but I think, I haven’t used it in years :-D….Would post few Hindi/ Urdu Shers today…Stay tuned…Tc

        Liked by 1 person

    1. yes, we should be positive even in trying circumstances… thank you so much for such an appreciation… actually i was trying to write this poem for an year but was unable to start the same but it happened suddenly and i wrote it… 🙂
      thank you very much for liking it… 🙂

      Like

    1. Welcome to my blog Leena… 🙂 Nice to have you here… yes i write in hindi as writing in our mother tounge is always a pleasure. My all the hindi poems are available in “Hindi Poems” category here… 🙂
      Keep visiting … 🙂

      Like

Leave a Reply to Himali Shah Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s