आना है तो आ भी जाओ ।


मेरे  दिल  में  बस्ती  है  एक  कली  । 

चाहता  हूँ  कि  वो  फूल  बन  जाये  ।  
पर    जब  भी   कोशिश   करता  हूँ    उसे  पाने  की  । 
पता  नहीं   … 
वो  मुरझा  क्यों  जाती  है  ।  
 

             मेरे  सपनों  में आती  है  हर  रोज़  । 
             चाहता  हूँ  उसे  अपना  बना  लूँ । 
             पर  जब  भी आँखें  खोलता  हूँ  । 
             पता  नहीं  … 
             वो  गुमशुदा  क्यों  हो  जाती  है । 
 
कौन  हो  तुम  । 
हर  बार  क्यों  मुझे  इतना  सताती  हो  । 
सता  कर  दूर  क्यूँ  चली  जाती  हो  । 
पर  तुम्हारा  सतना  मुझे  अच्छा  लगता  है  । 
तुम्हारे  ख़यालों  में  खोये  रहना  मुझे  बड़ा  ही  भाता  है । 
 
 
            आना  है  तो  अब  आ  भी  जाओ  । 
            ऐसे  मुस्कुरा  कर  तुम  यूँ  न  जाओ  ।  
            जब  जाना  ही  था  तो  आये  क्यों  थे  । 
            अपना  होने  का  सपना  दिखाए  क्यों  थे  । 
           
 
न  चेहरा  देखा  है  तुम्हारा  । 
और  न  देखी  है  कोई  तस्वीर  । 
पर  ऐसा  क्यों  लगता  है  मुझे  । 
जैसे  तुम  ही  हो  मेरे  जीवन  की  अनोखी  तक़दीर  । 
जब  करूँगा  मैं  तुम्हारा  स्पर्श  । 
उस  वक़्त  होगा  मुझे  अत्यंत  ही  हर्ष  । 
पर  तुम  हो  कहाँ  ?
तुम  हो  कौन ?
कहाँ  से  आती  हो  ?
फिर  कहाँ  चली  जाती  हो  ?
मुझे  इतना  तो  बता  दो  । 
अगर  आना  है  तो  अब  आ  भी  जाओ  । 
 
 
 
        – आशीष  कुमार 
Advertisements