हार नहीं मानूँगा ।


 राहों  में  फैली  सिर्फ  मुश्किलें  । 
 बंद  हैं  सारे  दरवाज़े  । 
 किसी  तरह  दरवाज़ा  खोलूँगा  । 
 हार  नहीं  मानूँगा  । 

             परेशान  है  मन  । 
             थक  चुका  है  पूरा  तन  । 
             अंधकारमय  हो  गया  है  जीवन  । 
              इस  अंधकार  में  प्रकाश  तलाशूँगा  । 
              हार  नहीं  मानूँगा  । 
              मैं  हार  नहीं  मानूँगा  ।

                 

 साथ  छूटे  तो  क्या  हुआ  । 
 रिश्ते  टूटे  तो   क्या  हुआ  । 
 अकेले  रहकर  ही  मैं  अकेलेपन  को  मारूँगा  । 
 लेकिन …
 हार  नहीं  मानूँगा  । 
 मैं  हार  नहीं  मानूँगा  । 

                 मुश्किल  है  मंज़िल  तो  क्या  । 
                 मुसीबत  का  अम्बार  लगे  तो  क्या  । 
                 राह  में  पत्थर  फैले   तो  क्या  । 
                 उसी  पत्थर  से  मैं  सड़क  बनाऊँगा  । 
                 अपनी  मंज़िल  पा  कर  रहूँगा  । 
                 पर  मैं ….
                 हार  नहीं  मानूँगा  । 
                 मैं  हार  नहीं  मानूँगा  । 

 धुन्ध  का  समन्दर  है  । 
 ना  राह  है  ना  राहगीर  । 
 वीरान  सा  जहाँ  है  । 
 इसी  वीराने  में  आशियाना  बनाऊंगा  । 
 पर  ….
 मैं  हार  नहीं  मानूँगा  । 
 मैं  हार  नहीं  मानूँगा  ।

                      तप  रहा  है  सारा  संसार  । 
                      भंवर  में  खोया  है  हर  एक  परिवार  । 
                      इंसान   तो  हैं  पर  इंसानियत  नहीं  । 
                      भीड़  तो  है  पर  अपनापन  नहीं  । 
                      दुनिया  जल  रही  है  हर  वक्त  । 
                      बदल  रही  है  ज़िन्दगी  करवट  हर  वक्त  । 
                      जलना  परे  तो  जलूँगा  । 
                      मुश्किलों  को  मारने  के  लिए  खुद  को  जलाऊँगा  । 
                      आग  की  भट्टी  में  स्वयं   तपाऊँगा   । 
                      पर  मैं  …. 
                      हार  नहीं  मानूँगा  । 
                      मैं  हार  नहीं  मानूँगा  । 

                                    

 – आशीष  कुमार