इक ज्योती |


 वो   पल  याद  तो  नहीं  कैसा  बीता  होगा  । 
 तुम्हारी  याद  में  बस  जी  रहा  हूँ  । 
 वो  खुशनुमा  वक्त  फिर  क्यूँ   नहीं   आता  ।
 तुम्हारे  आने  की  आस  लगाये  बैठा  हूँ  । 

                      आज  भी  अस्मरण  है  मुझे  तेरी  हर  एक   बात  । 
                      किया   था  वादा  देने  का  हर  मोड़  पे  साथ  । 
                      दिल  में  इक  ज्योती  जलाया   था  तुमने  । 
                      फिर  क्यों  कर  दिया  उसपे  बिन  मौसम  बरसात  ?

 ऐसी  भी  क्या  जल्दी  थी  तुम्हें  । 
 जो  तुमने  उठा  दिया  मुझपे  हाथ  । 
 मैंने  तो  अपना  सबकुछ  तुम्हें   दे  दिया  दान  । 
 पर  तुमने  मुझे  ही  बना  दिया  कूड़ादान  । 

                       दिल  की  ज्योती  आज  भी  जल  रही  है  । 
                       धीरे – धीरे  वो  तप  रही  है  । 
                       तुम्हें  भूल  जाना  मुमकिन  नहीं  । 
                       वापस  आ  जाओ  तुम  ” ये  नामुमकिन  भी  नहीं  । “

– आशीष  कुमार