इक दिया जला पानी में |


मुसलाधार बारिश के मौसम में |

चारों तरफ सिर्फ पानी ही पानी के आवागमन में |

डूबते हुए सारे सपनों के भंवर में |

इक दिया जला पानी में |

बादलों की गर्गाराहट में |

तेलों के अभाव में |

मुश्किलों के भवसागर में |

इक दिया जला पानी में |

खाबों की डूबती हुई नैय्या में |

रिश्तों के टूटते ज़ख्म में |

चोटिल हुए शरीर के अंग में |

फिर भी …

इक दिया जला पानी में |

सूरज की किरणों को देखकर |

आँखों में उम्मीद की लहरें फिर जाग उठी |

मन में अचानक इक ख्याल आया ,

क्यूँ न फिर से ” इक दिया जलाएं पानी में ” |

राह कठिन हैं बहुत |

मुश्किलें तो आएंगी |

सहना भी परता है बहुत |

सफलता तभी तो मिलेगी |

अंधेरों को चीरकर |

समंदर में दौड़कर |

रेगिस्तान में वर्षा लाकर |

आओ अब …

” इक दिया जलाएं पानी में “…

– आशीष कुमार

Advertisements

5 thoughts on “इक दिया जला पानी में |

  1. ANSHUL GAUTAM August 4, 2012 / 11:11 pm

    Very nice poem… I had previously seen it in your notes. No words to praise the beauty… 🙂

    Like

  2. Namrata Kumari August 20, 2012 / 8:28 pm

    I correlate your poem with the present mental state of a sincere Indian. Despite the adversities, we may light a lamp of hope in our lives keeping in mind that once we will achieve what we dream for. Very nice work. I liked it. 🙂

    Like

  3. Ashish kumar August 20, 2012 / 11:48 pm

    thank you so much… you said truly that we can light a lamp of hope in our lives despite of difficulties…

    feeling good that you liked my work…

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s