आदत |


अकेले रहने की आदत हो गयी है |
 
तन्हाई में जीने की आदत हो गयी है |
 
सबको मदद करने की आदत हो गयी है |
 
नज़रंदाज़ी का शिकार होने की आदत हो गयी है |
 
अँधेरे में रौशनी तलाशने की आदत हो गयी है |
 
बार बार ग़म को भुलाने की आदत हो गयी है |
 
कांटो भरी रास्तों पर चलने की आदत हो गयी है |
 
घाव पर नमक लगवाने की आदत हो गयी है |
 
बनावटी मुस्कराहट देने की आदत हो गयी है |
 
बिना खुश रहने की आदत हो गयी है |
 
किसी से कोई उम्मीद न करने की आदत हो गयी है |
 
 
ये आदत कब जाएगी पता नहीं…
 
इक ” चाहत ” थी इस ” आदत ” से छुटकारा पाने की |
 
पर …
 
लगता है ये ” आदत ” अब मेरी इक बहुत बरी ” ताकत ” बन गयी हैं |
 
    – आशीष कुमार 

…EMPTINESS AND LONELINESS…


Emptiness and loneliness are two of my best friends.

They are always with me even if i not need them.

You might be surprised in knowing that how ” emptiness and loneliness “  can become my friends.

But they are…

Yesterday i was on an unwanted walk. My feet suddenly stopped to move forward. My eyes were unable to see anything. My mind was unable to think even nothing… and my heart stopped beating.      Even though i am alive.

I came back, sat down and was feeling helpless.  No one was there  to support me. Then these two of my friends came and gave me enormous support and strength.

LONELINESS told me  ” don’t worry , nothing will happen. As i am here you will obviously achieve what you want. You will have to cheer up and should not lose your patience even if no “person” is in your support. ”

EMPTINESS  told me ” move forward dear. You have too much potential to do what you want. You can reach your destination by cutting each and every obstacles.

You can lit a candle without having any source of doing so.

You are a fire, a fire which cannot be stopped even if any one can keep pouring millions of millions of water on it. So keep burning.

Your presence is enough to keep others courageous.
So never let it down. “

I really felt relaxed then and started to work as normally. 

Humans may or may not support you at each and every junction. It is only you who will or can make the difference. So never be dependent on others. Be independent. Have faith on yourself and you will surely reach your destination one day… “

– by Ashish kumar

                                                                                                                                                                                                                             

प्यार का दर्द |


करते थे जिसके लिए हम रूप श्रृंगार |
कर के चली गयी मेरे दिल पे वार |
उसकी याद में मैं तारे गिनता चला गया |
रो रो कर आंसूं पीते चला गया |
मैं अपने प्यार का इजहार कर न सका |
अपने दिल की बात जुबान पर ला न सका |
किस्मत को शायद यही  मंज़ूर था |
मुझे नहीं मालूम मेरा क्या कसूर था |
            – आशीष कुमार

इक दिया जला पानी में |


मुसलाधार बारिश के मौसम में |

चारों तरफ सिर्फ पानी ही पानी के आवागमन में |

डूबते हुए सारे सपनों के भंवर में |

इक दिया जला पानी में |

बादलों की गर्गाराहट में |

तेलों के अभाव में |

मुश्किलों के भवसागर में |

इक दिया जला पानी में |

खाबों की डूबती हुई नैय्या में |

रिश्तों के टूटते ज़ख्म में |

चोटिल हुए शरीर के अंग में |

फिर भी …

इक दिया जला पानी में |

सूरज की किरणों को देखकर |

आँखों में उम्मीद की लहरें फिर जाग उठी |

मन में अचानक इक ख्याल आया ,

क्यूँ न फिर से ” इक दिया जलाएं पानी में ” |

राह कठिन हैं बहुत |

मुश्किलें तो आएंगी |

सहना भी परता है बहुत |

सफलता तभी तो मिलेगी |

अंधेरों को चीरकर |

समंदर में दौड़कर |

रेगिस्तान में वर्षा लाकर |

आओ अब …

” इक दिया जलाएं पानी में “…

– आशीष कुमार